शारीरिक सबंध वेळी महिलांना होऊ शकते स्पर्म ऍलर्जी ! हे आहेत वाचण्याचे त्याचे उपाय !

0
1247

शारीरिक सबंध वेळी महिलांना होऊ शकते स्पर्म ऍलर्जी, हे आहेत वाचण्याचे त्याचे उपाय ! सुबह जैसे ही उसकी नींद खुली तो उसने देखा कि उसकी गर्लफ्रेंड अपना पेट पकड़कर जमीन पर ऐसी बेचैन हो रही है, जैसे कोई प्यासा पानी के लिए तड़प रहा हो। अब वो डॉक्टर तो था नहीं, इसलिए समझ नहीं पाया कि उसकी गर्लफ्रेंड काे हुआ क्या है? लेकिन हां, उसे इस बात का अंदेशा जरूर था कि बीती रात उन दोनों के बीच जो कुछ हुआ है, ये सब उसी का नतीजा है।

जब भी हम किसी रिलेशनशिप में होते हैं तो हमारे पार्टनर की खुशी के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं। आजकल तो पार्टनर्स के बीच फिजिकल रिलेशनशिप होना आम बात है। लेकिन इन सब की वजह से हमारे शरीर में कई बीमारियां भी पैदा हो जाती है, जो ना केवल हमारे शरीर बल्कि खासतौर पर हमारे जननांगों को भी प्रभावित करती है। आखिर यह सब होता क्यों हैं? यह हम जानेंगे इस स्टोरी के जरिए।

यौन संबंधों की समस्या

दरअसल, ये समस्या एक यौन संचारित रोग है। जो यौन संबंध बनाते समय पुरुष से महिला में ट्रांसमिट किए जाने वाले स्पर्म की वजह से महिला को हो सकता है।

मेडिकल भाषा में इसे यह कहते हैं

स्पर्म एलर्जी को मेडिकल भाषा में सेमिनल प्लाज्मा हाइपरसेंसिटिविटी भी कहते हैं। सेक्शुअल ट्रांसमिशन के दौरान स्पर्म महिलाओं के यूटेरस तक पहुंचकर उनके प्रजनन अंगों को नुकसान पहुंचाते हैं।
किन कारणों से होती है स्पर्म एलर्जी, आगे जानिए।

शुक्राणुओं का सम्पर्क

यह एलर्जी तब भी होती है जब शुक्राणु महिलाओं के शरीर के साथ सीधे संबंध में आते हैं। यदि संभोग के दौरान पुरुष कंडोम का इस्तेमाल कर रहा है तो इससे बचाव भी किया जा सकता है।

स्पर्म एलर्जी के कारण

स्पर्म एलर्जी आमतौर पर तब होती है, जब महिलाओं का शरीर पुरुष के शरीर में मौजूद प्रोटीन रसायनों की एलर्जिक प्रतिक्रिया के संपर्क में आता है। स्पर्म में एलर्जी, ग्लाइकोप्रोटीन की वजह से होती है।
स्पर्म एलर्जी होने पर महिलाओं में क्या लक्षण दिखाई देते हैं, आगे जानते हैं।

स्पर्म एलर्जी के लक्षण

संभोग के बाद जब महिलाओं के शरीर में शुक्राणुओं का प्रवेश हो जाता है। उसके 10-15 मिनट बाद इस एलर्जी के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। इसमें सबसे पहले महिलाओं के गुप्तांग में हल्का दर्द शुरू हो जाता है।

अन्य लक्षण

दर्द के अलावा स्पर्म एलर्जी के अन्य लक्षण भी दिखाई देते हैं जैसे, जननांगों में खुजली होना, स्किन पर बारीक दानों का निकलना, जलन, बेहोशी, सूजन, पेशाब करने में दर्द होना जैसी समस्याएं होती हैं। स्पर्म एलर्जी होने पर क्या करें महिलाएं, जानिए आगे।

सभी में अलग-अलग

जिस तरह सभी महिलाओं में शारीरिक संबंधों को लेकर अलग-अलग चाह होती है। ठीक उसी तरह स्पर्म एलर्जी का ये रोग भी सभी महिलाओं में अलग-अलग होता है। हो सकता है किसी में ये बहुत तीव्र दर्द वाला हो, ये भी हो सकता है कि किसी को इससे कोई फर्क ही ना पड़े।

सेक्स की कमी

स्पर्म एलर्जी का सीधा असर पति-पत्नी या गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड के रिश्तों पर पड़ता है। इससे महिलाओं में फिजियोलॉजिकल समस्याएं पैदा हो जाती है। दोनों के रिश्ते में इंटिमेसी भी कम हो जाती है।

डॉक्टर की सलाह लें

रिलेशनशिप में फिजिकल लाइफ की इन समस्याओं के बारे में आप दोनों को बैठकर बात करनी चाहिए। इसके अलावा मनमुटाव या नाराजगी के केस में आपको डॉक्टर या मनोवैज्ञानिक से उचित सलाह लेनी चाहिए व स्पर्म एलर्जी के लिए इलाज भी लेना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here